Kahaani (Aankhon Ke Pardon Pe)

Kahaani (Aankhon Ke Pardon Pe) Lyrics

Udaan  by Joi Barua, Neuman Pinto

Song  ·  38,869 Plays  ·  3:27  ·  Hindi

℗ 2010 Super Cassettes Industries Private Limited

Kahaani (Aankhon Ke Pardon Pe) Lyrics

आँखों के परदों पे प्यारा सा जो था वो नजारा
धुआँ सा बनकर उड़ गया अब ना रहा
बैठे थे हम तो ख्वाबों के छाँव के तले
छोड़ के उनको जाने कहाँ को चले

कहानी खत्म है या शुरुआत होने को है
सुबह नई है ये या फ़िर रात होने को है
कहानी खत्म है या शुरुआत होने को है
सुबह नई है ये या फ़िर रात होने को है

आने वाला वक़्त देगा पनाहें
या फिर से मिलेंगे दो राहें
ख़बर क्या? क्या पता?

Writer(s): Amitabh Bhattacharya, Amit Trivedi<br>Lyrics powered by www.musixmatch.com


More from Udaan

Loading

You Might Like

Loading


FAQs for Kahaani (Aankhon Ke Pardon Pe)