Kehna Hi Kya - Unwind Version

Kehna Hi Kya - Unwind Version Lyrics

Bollywood Unwind - Romantic Classics in a Relaxing Urban Avatar  by Hamsika Iyer, A.R. Rahman

Song  ·  750,971 Plays  ·  5:13  ·  Hindi

© 2015 Strumm Entertainment

Kehna Hi Kya - Unwind Version Lyrics

कहना ही क्या, ये नैन एक अंजान से जो मिले

अरमाँ नए ऐसे दिल में खिले
जिनको कभी मैं ना जानूँ
वो हमसे, हम उनसे कभी ना मिले

अब क्या करें? क्या नाम लें?

कहना ही क्या, ये नैन एक अंजान से जो मिले

पहली ही नज़र में
कुछ हम, कुछ तुम हो जातें हैं यूँ गुम
नैनों से बरसे (रिमझिम)

शर्म थोड़ी-थोड़ी हमको
आए तो नज़रें झुक जाएँ
सितम थोड़ा-थोड़ा हम पे

ऐसे चलें, आँचल उड़े
दिल में एक तूफ़ाँ उठे


हाँ, इन होंठों ने माँगा सरगम
सरगम तू, और तेरा ही प्यार है
आँखें ढूँढें हैं जिसको हर दम

महफ़िल में भी
तन्हा है दिल ऐसे, दिल ऐसे
तुझको खो ना दे

आज मिली ऐसी खुशी
झूम उठी दुनिया ये मेरी

कहना ही क्या...

Writer(s): סלע אייל, Rahman,a R, Mehboob,<br>Lyrics powered by www.musixmatch.com


More from Bollywood Unwind - Romantic Classics in a Relaxing Urban Avatar

Loading

You Might Like

Loading


5m 13s  ·  Hindi

© 2015 Strumm Entertainment

FAQs for Kehna Hi Kya - Unwind Version