Apni Aag Ko Zinda Rakhna Lyrics

Beyond Time  by Jagjit Singh, Chitra Singh

Song   ·  2,443 Plays  ·  7:19  ·  Hindi

℗ 1987 Saregama India Ltd

Apni Aag Ko Zinda Rakhna Lyrics

अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

कितना आसान है तस्वीर बनाना औरों की
कितना आसान है तस्वीर बनाना औरों की
ख़ुद को पस-ए-आईना रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

तुमने मंदिर देखे होंगे ये मेरा आँगन है
तुमने मंदिर देखे होंगे ये मेरा आँगन है
एक दिया भी जलता रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

चुल्लू में हो दर्द का दरिया ध्यान में उसके होंठ
चुल्लू में हो दर्द का दरिया ध्यान में उसके होंठ
यूँ भी खुद को प्यासा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है
अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है
अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है
अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

Writer(s): ISHRAT AFREEN, JAGJIT SINGH<br>Lyrics powered by www.musixmatch.com

7m 19s  ·  Hindi

℗ 1987 Saregama India Ltd