Ambe Ma Taro Sanedo Lyrics

Halo Ambaji Na Mede  by Rajnikant Thakkar

Song   ·  3,274 Plays  ·  13:27  ·  Gujarati

© 2006 RDC / Ekta Sound

Ambe Ma Taro Sanedo Lyrics

तारों में सज के, अपने सूरज से, देखो धरती चली मिलने
झनकी पायल मच गयी हलचल, अंबर सारा लगा हिलने

हैं घटाओं का, दो नैन में काजल
धूप का मुख पे डाले सुनहरा सा आँचल
यूँ लहराई, ली अंगड़ाई, लगी जैसे धनक खिलने

आग सी लपके, जलती हुई राहे
जी को दहलाये, बेचैन तूफां की आहे
ना डरेगी, ना रुकेगी, देखे क्या हो, कहा दिल ने

Lyrics powered by www.musixmatch.com

13m 27s  ·  Gujarati

© 2006 RDC / Ekta Sound